Featured Posts

Sports

Games

Tuesday, August 14, 2018

ICO (initial coin offering) kya hota hai? aur is se kaise paise kama sakte hai?

No comments :

ICO (initial coin offering) kya hota hai? aur is se kaise paise kama sakte hai?

ऐसे ही कुछ सवाल अगर आपके दिमाग में घूम रहे है तो आज आपको इन सवालो के जवाब मिल जायेंगे,
जैसे की हम देख रहे है दुनिया में cryptocurrency में लोगो की रूचि दिन ब दिन बढ़ती जा रही है , cryptocurrency का नाम आते ही bitcoin की सोच सामने आ जाती है,लोग अब बिटकॉइन और क्रिप्टोकोर्रेंसी में निवेश करना शुरू कर चुके है लेकिन आज भी कई लोगो में क्रिप्टोकोर्रेंसी को लेके काफी उलझन है की इसका भविष्य क्या होगा ,क्या ये यूँही चलती रहेगी ! या कुछ समय बाद बंद हो जायेगी आदि ,,
तो पहले इन छोटी छोटी उलझनों का जवाब यही है की cryptocurrency भविष्य है और इसे कोई बंद नहीं कर सकता ,
तो अब आपके दिमाग में घूम रहा होगा की क्या इसमें निवेश करना चाहिए ? तो इसका जवाब आसान नहीं है क्युकी बिटकॉइन किसी एक के बस में नहीं है ,ना ही इस्पे किसी सरकार का बस  चलता है इसीलिए इसकी कीमत अचानक घटती बढ़ती रहती है जिससे आपका नुकसान भी हो सकता है और फायदा भी,तो इसमें निवेश करना चाहिए  है या नहीं यह आपको खुद सोचना होगा,

अब अपने मेन मुददे पर आते है की ICO (initial coin offering) kya hota hai? aur is se kaise paise kama sakte hai?
 
ICO initial coin offering, Bitcoin, Altcoin, Cryptocurrency ,Crypto Hindi
ICO (initial coin offering) kya hota hai? aur is se kaise paise kama sakte hai?
ICO
का फुलफॉर्म Initial Coin Offering होता है ,हिंदी में अनुवाद किया जाए तो प्रारंभिक सिक्के की पेशकश
होता है।
जैसा की आपने देखा होगा बिटकॉइन के अलावा और 1800 तरह की cryptocurrency मार्किट में घूम रही है ,bitcoin के अलावा जितनी भी cryptocurrency होती है उसे altcoin कहा जाता है जो की bitcoin की तरह ही blockchain technology  पर काम करते है , और दिन ब दिन नयी नयी कम्पनिया मार्किट में आ रही है जो blockchain technology पर काम करने की योजनाए बना रही है , यानी वो जो काम करेगी उसमे blockchain technology को यूज़ किया जाएगा।
जब ऐसी कोई नयी कंपनी मार्किट में आती है तो वो crowd funding के ज़रिये पैसा जमा करती है अपने बिज़नेस को आगे बढ़ाने के लिए , crowd funding यानी बहुत सारे लोगो से पैसा लेके जमा करना होता है।
जब कंपनी लोगोसे निवेश करवाने के लिए पैसा लेती है तो उन्हें share के रूप में कुछ token यानी altcoin दिए जाते है और इसी को ICO Initial Coin Offering कहा जाता है।
Ico Token के साथ कंपनी कुछ documents भी प्रदान करवाती है जिसमे token और कंपनी के बारे में बहुत कुछ लिखा होता है जैसे की वह token कब तक किसी cryptocurrency exchange पे listed होगा ! कंपनी भविष्य में क्या क्या करने की योजनाए बना रही है आदि....
और जब कंपनी के द्वारा ico token किसी crypto exchange पर listed यानी सूचीबद्ध किया जाता है तो निवेशक जब चाहे उसे बेच सकता है उस crypto exchange पर जाके। उस वक़्त token का जो भी rate चल रहा होगा वो निवेशक को मिल जाएगा अगर वह बेचना चाहेगा तो।

कंपनी के द्वारा दिए गए share के रूप में Ico token को निवेशक कैसे इस्तेमाल कर सकता है ?

शेयर के रूप में दिए गए token को निवेशक जैसे चाहे उसका उपयोग कर सकता है,
निवेशक चाहे तो token किसी को भी बेच सकता है। या फिर token को bitcoin या किसी और cryptocurrency से exchange यानी बदल सकता है उस cryptocurrency exchange पे जा कर जिस exchange पर वो ico token listed होगा।
या फिर token को अपने पास उस समय तक संभाल कर रख सकता है जब तक उस token का प्राइस न बढ़ जाए। 

किसी भी कंपनी का ICO लाने का मुख्य कारण क्या होता है ? main reason for ico initial coin offering

कोई भी कंपनी शुरू करने के लिए या उसका कोई भी प्रोडक्ट या सर्विस देने के लिए पैसो की ज़रुरत होती है ,और ये पैसा जुटाने के लिए कंपनी के पास कई विकलप होते है। जैसे की.....
  1. अगर कंपनी चाहे तो किसी bank से loan ले सकती है.
    लेकिन किसी नयी कंपनी के लिए bank से loan लेना किसी खतरे से खाली नहीं है क्युकी कोई भी नए business को success करने के लिए वक़्त और पैसा लगता है , और अगर वक़्त ज़ादा लग जाता है तो bank को loan देना new कंपनी के लिए बहुत मुश्किल हो जाता है ,
  2. कंपनी अपने शेयर डायरेक्ट मार्किट में बेचके पैसा जुटा सकती है ,लेकिन अभी भी वो दौर नहीं आया है जब लोग या बड़े निवेशक किसी blockchain technology पे काम करने वाली कंपनी में सिर्फ बातो या कागज़ के आधार पे निवेश करदे। मार्किट में Ico के नाम पे बहुत धोके हुए है इसलिए लोग या इन्वेस्टर सिर्फ बातो या कागज़ के आधार पे इन्वेस्ट नहीं करते ,
  3. इन विकल्पों में सबसे आसान और अच्छा विकल्प सिर्फ ICO (Initial coin offering )का ही होता है। क्युकी ico वोही कम्पनी लाती है जो blockchain technology के आधार पर काम करती है। और यह उन लोगो को target करती है जो blockchain में निवेश करना चाहते है। इसमें कंपनी निवेशकों को अपने प्रोडक्ट के बारे में बताती है ,और उसमे निवेश करने बदले में उन्हें ico token प्रदान कराती है ,और निवेशक भी अछे ico में निवेश करना पसंद करते है क्युकी जब कोई कंपनी अपने ico के वक़्त टोकन देती है तो उस वक़्त उस token का price काफी काम होता है और जब आगे जाके वही token किसी crypto exchange पे listed होता है तब उसकी प्राइस काफी बाद जाती है क्युकी उसपर और नए निवेशकों क ज़रिये निवेश होने लगता है और टोकन की market value बढ़ने लगती है ,इसलिए ico के ज़रिये निवेशकों से निवेश करवाने का विकल्प सबसे आसान और अच्छा रहता है। 
Ico में निवेश करने में बड़े फायदे है जैसे की काम समय में token का प्राइस बड़ी मात्रा में बढ़ जाना,और निवेश किये गए पैसे कई गुना ज़ादा हो जाना ,
लेकिन ICO में निवेश करने के कुछ खतरनाक नुकसान भी हो सकते है ,
cryptocurrency और ico में निवेशकों का रुझान देखते हुए इसकी तरह सिर्फ अछि कम्पनिया ही नहीं बल्कि चोर और घोटाला (scam)करने वाले लोग भी शामिल हो चुके है , वह लोग झूटी कंपनी बनाते है और लोगो को जल्दी ही अमीर बनने के सपने दिखाते है और उन्हें अपना वह token जिसकी कोई value नहीं होती वह बेच देते है ,और इसी तरह नकली प्रोजेक्ट दिखाके कई लोगो से निवेश करवा लेते है और crowd funding के नाम पर अपना ico promote करते है ,और जब लोग उसमे ज़ादा मात्रा में निवेश कर देते है तो वो अपनी कम्पनी बंद करके और लोगो का सारा पैसा लेके भाग जाते है ,और ऐसा होने पर निवेशक कुछ नहीं कर सकता क्युकी ऐसी कम्पनी की हर detail नकली होती है और जो इन्होने ऑफिस का address दिया होता है वहा भी कोई नहीं मिलता ,इसलिए ICO में निवेश करने से पहले उसकी पूरी जानकारी ले लेना बहुत ही ज़रूरी होती है।
जैसे की कम्पनी कहा की है ,उसका क्या बैकग्राउंड है ,उसकी टीम में कौन कौन है ,आदि... बिना किसी जानकारी के ico में निवेश करने से लोगो का सारा निवेश ख़तम हो सकता है ,
 
कई लोग समझते है की ico और ipo एक ही होता है ,तो हम बतादें की दोनों में बहुत बड़ा अंतर होता है , 
ipo में निवेशक उस कम्पनी के share holder होते है जिन्हे उस कम्पनी के अंदर वोटिंग करने का भी हक़ होता है ,
वहीँ ico में लोगो के पास ऐसा कोई हक़ नहीं होता ,उन्हें सिर्फ शेयर के नाम पर एक टोकन मिल जाता है।
ipo में वह कम्पनी होती है जो नयी और स्थापित होती है और चल रही है,और वही ico में ज़्यातर वह कम्पनिया होती है जिन्हे अपनी कम्पनी बनाने के लिए पैसो की ज़रुरत होती है। ico निवेशकों से ही निवेश करवाता है और उनके ही पैसो से प्रोडक्ट बनाता है और उन्हें ही बेच देता है।
ico कम्पनी शुरू होने से पहले ही अपने टोकन बेच सकता है ,वही ipo कम्पनी की स्थापना होने के बाद ही जारी किया जा सकता है।
 cryptocurrency की दुनिया काफी risky है इसलिए जहा भी निवेश करे पहले पूरी तरह जानकारी लेना ना भूले. 
 
ICO (initial coin offering) kya hota hai? aur is se kaise paise kama sakte hai? यह आर्टिकल में हमने आपको समझने की कोशिश की है ,उम्मीद है की इससे आपकी कुछ हद्द तक मदत हुई होगी,
cryptocurrency से related important news and updates पाने के लिए हमारी वेबसाइट को subscribe ज़रूर करे, 
बिटकॉइन के बारे में हिंदी में जान्ने के लिए यहाँ click करे => Bitcoin In Hindi
                                              cryptokhabar.ooo

Thursday, August 9, 2018

What is Bitcoin In Hindi Asan Shabdo me,

No comments :
नमस्कार दोस्तों , Hello Friends
इस पोस्ट हम Bitcoin के बारे में बात करेंगे और समझेंगे की Bitcoin क्या होता है और कैसे काम करता है ?

what is Bitcoin in Hindi ?

 
What is Bitcoin
What Is Bitcoin ?

Bitcoin को हम छू नहीं सकते यह एक Digital currency है। जैसे कोई Network या कोई calculation इत्यादि। बिटकॉइन का अविष्कार 2009 जनवरी में Satoshi Nakamoto नामक व्यक्ति या कीसी संघटन ने किया था,आज तक किसी के पास भी इसकी पुख्ता जानकारी नहीं है । 
सातोशी नाकामोतो का Bitcoin लाने के पीछे दो मकसद थे ,
  1.  ट्रांसेक्शन करते वक़्त मध्यस्थ यानी थर्ड पार्टी को ख़तम करना।

    जब भी हम किसी को पैसे ट्रांसफर करते है तो बैंक मध्यस्थ यानी थर्ड पार्टी का काम करते है ,बैंक चेक करता है की आप पैसे किसे भेज रहे हो ,आपके account में कितने पैसे है और कुछ document इत्यादि चेक करके बैंक आपके transaction को approved कर देता है ,
    वंही Bitcoin दुनिया की सबसे पहली decentralized currency है यानी बिटकॉइन बिना किसी मध्यस्थ मेडियटर या बैंक के काम करता है,बिटकॉइन का कोई मालिक नहीं है ,ना ही किसी संघटन या किसी सरकार का इसपे नियंत्रण है, Bitcoin peer to peer network पर काम करता है ,यानी transaction आपके और आप जिसे ट्रांसफर कर रहे हो सिर्फ उसके बिच होता है , इसलिए इसे सबसे ज़ादा सेफ माना जाता है, इसे hack या चोरी करना लगभग ना मुमकिन होता है, 
  2. transaction charges  को कम करना ,

    जब भी हम क्रेडिट या डेबिट कार्ड से कोई transaction करते है तो हमे कई बार 1% से 2% तक एक्स्ट्रा charges देने पड़ते है ,और जब हम विदेश में पैसे ट्रांसफर करते है तो बैंक हमसे इस काम के लिए अछि खासी फीस वसूल करते है और इस काम के लिए कभी कभी दो से तीन दिन तक का समय भी लग जाता है।
    और वंही जब हम Bitcoin में transaction करते है तो हमे बैंक और थर्ड पार्टी के मुकाबले बहुत ही कम फीस देनी पड़ती है, और हमारी transaction कुछ ही मिनटों में पूरी हो जाती है। 

 बिटकॉइन कैसे काम करता है ?  how does the Bitcoin work ?

Bitcoin में इन्वेस्ट करने के लिए सबसे पहले आपको Bitcoin Wallet बनाना होगा जिसमे आपके bitcoin store होंगे जैसे हमारे बैंक अकॉउंट में हमारे पैसे स्टोर होते है, इंडिया में zebpay, unocoin, buyucoin, और  coinsecure जैसे कई Bitcoin wallet प्रोवाइडर और exchanges है जिनके साथ जुड़ कर आप अपना bitcoin wallet बहुत ही आसानी से Free में बना सकते हो।
हर बिटकॉइन वॉलेट का अपना एक account address होता है जैसे बैंक अकॉउंट का अपना एक address  होता है। अगर आप किसी को बिटकॉइन भेजना चाहेंगे तो आपको उसके बिटकॉइन वॉलेट address पे bitcoin भेजना होगा,और उसी तरह अगर आप को बिटकॉइन किसी से मंगवाना होगा तो उसे अपना बिटकॉइन wallet address देना देना होगा , हर Bitcoin wallet की एक Public Key और एक private Key होती है। Public Key ही आपका Bitcoin Wallet address होता है। public key आप किसी से भी शेयर कर सकते है ,और public key पर ही आपके Bitcoin आते है ,
और private key आपको हमेशा अपने पास secrete तरह से संभाल कर रखनी होती है, private Key आप किसी से भी शेयर नहीं कर सकते क्युकी आपकी private key से कोई भी व्यक्ति आपका bitcoin Wallet खोल कर आपके बिटकॉइन चुरा सकता है ,कभी भविष्य में अगर आप अपने Bitcoin Wallet का password भूल गये तो अपनी private key की मदत से आप अपना Bitcoin Wallet फिरसे recover कर सकते हो,इसी लिए private key को हमेशा संभाल कर और गोपनीय तरह से रखना चाहिए ,
जब भी आप किसी को या कोई आपको  transaction  करता है यानी बिटकॉइन भेजता है तो उस transaction के साथ एक digital signature generate होता है। और उस digital signature की मदत से nodes उस transaction को verify कर लेते है। nodes मतलब वह computer जो bitcoin network से जुड़े होते है , 
   
Blockchain Nodes
Blockchain Nodes
Example : जैसे जब आप किसी को कुछ पैसो का cheque sign करके बैंक में देते हो तो बैंक उस cheque को verify करती है की उस पर जो हस्ताक्षर है वो आपके है या नहीं ! उस अकॉउंट में पैसे है या नहीं और ये सब वेरीफाई करने के बाद बैंक उस cheque को पास करती है ,
इसी तरह जब आप किसी को bitcoin भेजते हो तो आपके digital signature की मदत से nodes पता लगा लेते है की आप के पास उतने bitcoin है या नहीं जितने आप भेज रहे हो ,आपके  पास आपकी  private key है या नहीं इत्यादि ,

Bitcoin में blockchain टेक्नॉलजी इस्तेमाल की जाती है। Blockchain यानी एक Public ledger ( खाता धारक )होता है। जैसे कोई व्यापारी अपने सारे transaction का हिसाब अपनी खाता बही में रखता है उसी तरह Bitcoin के सारे transaction का हिसाब कीताब  blockchain में रहता है, blockchain में बिटकॉइन के शुरू से लेके आखरी तक सारे transaction का रिकॉर्ड स्टोर रहता है।
अपने सारे हिसाब की नयी एंट्री अपने खाता बही में करने का काम वो व्यापारी खुद करता है या उसके worker करते है, लेकिन blockchain में जो बिटकॉइन transaction की एंट्री का काम होता है उसे bitcoin miners करते है. bitcoin Miners का काम होता है blockchain यानी public ledger को maintain करना। और उन्हें इस काम के बदले इनाम के रूप में कुछ मात्रा में bitcoin मिलता है। यही उनकी transaction fee होती है। और जो बिटकॉइन  Bitcoin  miners को इनाम के रुप में मिलते है वो नए बिटकॉइन होते है ,इसी तरह नए बिटकॉइन generate होते चले जाते है।जो भी नए बिटकॉइन Bitcoin market में आते है वो bitcoin miners के ज़रिये ही आते है, नए bitcoin सिस्टम में आने का एक यही तरीका है ,
 
what is Bitcoin in Hindi ? Bitcoin Kya hai ? यह आसान शब्दों में हमने आपको समझाने की कोशिश की है उम्मीद है की आपको इस पोस्ट से कुछ मदत मिली होगी।
cryptocurrency से जुड़ी ज़रूरी अपडेट जान्ने के लिए हमारी वेबसाइट को Subscribe ज़रूर करे,
                                                                          धन्यवाद्
                                                                                         https://www.cryptokhabar.ooo/             

Saturday, August 4, 2018

when altcoin will moon again (Hindi) ?

No comments :

when altcoin will moon again (Hindi )?

 altcoin  का price कब बढ़ सकता है ?
When altcoin will moon again?
when alts will  moon ?
जैसा की हम पिछले 8 महिनों से देख रहे  है। altcoin (cryptocurrency) का price सिर्फ निचे की तरफ ही जा रहा है। इसका सबसे बड़ा कारण है Bitcoin Dominance का  लगातार बढ़ना, Bitcoin Dominance यानी पूरी Cryptocurrency  मार्किट में जितना पैसा लगा है उसका जितना प्रतिशत पैसा बिटकॉइन में है उसे bitcoin dominance कहा  जाता है.

उदाहरत (example) के तौर पे कहा जाए तो , अगर पूरी cryptocurrency market में 100rs  लगे है ,और Bitcoin Dominance 50% है तो इसका मतलब होता है की 100rs में से bitcoin में 50rs  और altcoin में 50rs लगे है।

 फ़िलहाल पूरी cryptocurrency market Cap 264 billion dollar है। यानी इस वक़्त जितने भी altcoins (cryptocurrency ) मार्किट में है उन सब को मिलाके  264 billion dollar मार्किट में घूम रहे है। जो पिछले साल करीब 800 बिलियन डॉलर तक पोहोच चूका था।
और फ़िलहाल Bitcoin dominance पूरी मार्किट का 48.2% है।  जो की हमे लगता है कुछ ही समय में 50 प्रतिशत तक जा सकता है !
और यही कारण होता है altcoin का price निचे गिरने का !
क्युकी bitcoin dominance के बढ़ने का मतलब होता है altcoin का पैसा bitcoin में जाना ,जब लोग अपने altcoin बेच कर Bitcoin खरीदने लगते है तब bitcoin dominance बढ़ने लगता है। और altcoin का price निचे गिरने लगता है। और यही होता आ रहा है पिछले 7 महीनो से इसलिए altcoin 2018 जनवरी से अब तक निचे ही गिर रहे है क्युकी bitcoin dominance बढ़ रहा है।

अब आता है सवाल when altcoin will moon again ? यानी altcoin कब पिछली बार की तरह बढ़ेंगे ?

जैसा की हमने ऊपर बताया की Bitcoin Dominance फ़िलहाल 48.2 % है। और हमे लगता है की ये 50% तक जा सकता है क्युकी आने वाले दिनों में bitcoin पर काफी बड़ी बड़ी updates आने वाली है जैसा की ETF (exchange traded fund) SEC, ICE  इत्यादि, ये सब trading से जुड़ी बड़ी बड़ी कम्पनिया है। आप इनके बारे में google पर search कर सकते है। और इन्ही कुछ कारणों की वजह से bitcoin dominance 48.2% से बढ़कर 50% तक जा सकता है या उस से भी ज़ाद, पर हमारा अनुमान है की 50% को छूने के बाद Bitcoin dominance निचे की तरफ आ सकता है।  और बिटकॉइन डोमिनान्स का निचे की तरफ आने का मतलब है altcoin का price बढ़ने की शुरुवात होना। और altcoin के price में अच्छी बढ़त पाने के लिए Bitcoin Dominance का लगातार निचे की तरफ आना ज़रूरी है।

ऐतिहासिक डाटा देखा जाए तो ETH (Ethereum) Coin का breakout भी altcoin season की शुरुवात के संकेत देता है। 
 ethereum coin दुनिया में दूसरे नंबर का सबसे बड़ा कॉइन है। इस coin  ने भी बिटकॉइन की तरह काफी तेज़ी से अपने price और investment में बढ़त पायी है। आज दुनिया में इस Coin की market-cap दूसरे नंबर पर है जो की करीब 41 billion dollar है।  जो अपने आप में एक बहुत बड़ा आकड़ा है, इसलिए इस coin से jude तथ्य  को नज़र अंदाज़ नहीं किया जा सकता। ज़ादातर देखा गया है की altcoin का price बढ़ने से पहले ethereum के price वृद्धि होने लगती है और इसका price ट्रैंड लाइन को breakout कर देता है और इसके पीछे पीछे altcoin भी बढ़ना शुरू हो जाते है और bitcoin dominance निचे आने लगता है। ये जानकारी ऐतिहासिक डाटा से ली गयी है,

ethereum में breakout को तो altcoin के लिए अच्छी शुरुवात माना ही जाता है लेकिन ऐतिहासिक डाटा ये भी दर्शाता है की कभी कभी कम satoshi वाले कॉइन जैसे की bytcoin (bcn) या dogecoin (doge) के price में breakout होना भी altcoin season की शुरुवात होती है।

फ़िलहाल हम ethereum के price में भारी उछाल की उम्मीद कर रहे है। ethereum दो सपोर्ट का सामना कर रहा है। 

  1. long term up-trending support
  2.  horizontal support
ट्रेडिंग के इंडिकेटर जैसे की RSI और MACD भी सकारात्मक सुचना दे रहे है। इसलिए  हमे लगता है की जल्द ही ethereum breakout कर सकता है और altseason की शुरुवात हो सकती है ।

आप लोगो के लिए हमारी सलाह है की पोंजी  स्किम और नए MLM coins से दूर रहे। जितना हो सके बड़े coin जैसे की bitcoin Ethereum Coins में बने रहे ,
best 5 cryptocurrency exchanges के बारे में जान्ने के लिए यहाँ Click करे
bitcoin और cryptocurrency के ज़रूरी updates पाने के लिए इस वेबसाइट को सब्सक्राइब ज़रूर करे।
                                                              धन्द्यवाद,
                                                                               cryptokhabar.ooo

Thursday, August 2, 2018

5 Best Cryptocurrecy exchange in 2018

No comments :

Bitcoin and altcoin
Bitcoin And Altcoin

धीरे धीरे लोग Bitcoin और Altcoin की तरफ ज़्यादा आकर्षित हो रहे है, जैसे जैसे लोगो को Cryptocurrency के बारे में पता चल रहा है वैसे वैसे लोग इसमें Invest करने की जानकारी प्राप्त कर रहे है, आज भी कई लोग है जिन्हे ये तो पता है की cryptocurrency में इन्वेस्ट करके अच्छा मुनाफा कमाया जा सकता है ! लेकिन यह नहीं जानते की इसमें इन्वेस्ट कैसे करना है  और इसके कौनसे best Exchanges है ! आज बाहर के देशो की तरह India  में भी कई लोग क्रिप्टोकोर्रेंसी से अच्छा पैसा कमा रहे है। कुछ लोग इसमें इन्वेस्ट करके कमा रहे है तो कुछ लोग Cryptocurrency Mining करके।

और इसी से जुड़े कई सवाल उन लोगो के दिमाग में चल रहे होंगे जो नए नए cryptocurrency Market में आये है।
जैसे की !!
  • Bitcoin ,Altcoin (cryptocurrency)  कहा से ख़रीदे ?

  • Bitcoin Mining क्या होती है और कैसे की जाती है ?

  •  Bitcoin और Altcoin  खरीदने के लिए cryptocurrency Best exchanges कौनसे है ?

 
Bitcoin Mining
Bitcoin Mining

वगेरा वगेरा ......
Bitcoin
Bitcoin

आज इस आर्टिकल में हम जानेंगे की cryptocurrency के 5 बेस्ट exchanges कौनसे है।

जहा से आप cryptocurrency और Bitcoin खरीद सकते है , अगली पोस्ट में हम जानेगे की cryptocurrency की mining कैसे और कहा से की जाती है।

Exchanges के बारे में बात करने से पहले हम बताना चाहते है आज इस वक़्त पोस्ट लिखते वक़्त bitcoin और altcoin की market 268 billion dollar  है। और पूरी मार्किट का 48.5%  बिटकॉइन में invest hai ,और हमे लगता है इस साल मार्किट 600 billion डॉलर  पार करेगी।

आइये जानते है Cryptocurrency के 5 Best exchanges कौनसे है?

1 . Binance 

binance एक नया exchange है जो 2017 में चीन में स्थापित किया गया था जो बादमे जापान में स्थानांतरित किया गया। इस exchange ने बहुत तेज़ी से cryptocurrency की दुनिया में तरक्की  की है ,इसका अपना खुदका altcoin भी है जिसका नाम bnb (binance coin) hai

2 . Bitmex

Bitmex एक ऐसा एक्सचेंज है जो बड़े बड़े ट्रेडर्स की पहली पसंद बनता जा रहा। इस एक्सचेंज पर बहुत बड़ी Volume से Trading की जाती है और यहाँ आप margin ट्रेडिंग भी कर सकते है। यानी जितना पैसा आपके  पास है उससे दस गुना ज़ादा पैसा लगाने की अनुमति देता है ये एक्सचेंज जिसे margin trading कहा जाता है।

3 . Bittrex

Bittrex नए उसेर्स में काफी लोकप्रिय है क्युकी ये इस्तेमाल करने में काफी आसान है। और यहाँ ज़ादा तर पुराने सभी altcoin listed है। यह एक्सचेंज 2013 में usa में स्थापित किया गया था ,इसी कारण इस एक्सचेंज को काफी safe एक्सचेंज माना जाता है।

4 . kucoin 

kucoin एक बहुत ही बेहतरीन एक्सचेंज है , kucoin exchange 2017 में स्थापित किया गया गया था। kucoin एक्सचेंज का खुदका एक altcoin है जिसका नाम kcs है, kucoin exchange बहुत ही तेज़ी से आगे बाद रहा है इस exchange की सबसे बड़ी खासियत है ये हर वो कॉइन जो नया लांच होता है उसे अपने exchange पर listed कर लेता है जिसकी वजह से users उस नए coin में जल्दी invest कर सकते है।

 5 . poloniex 

poloniex भी Bittrex की तरह काफी safe और पुराने exchanges में आता है। यह एक्सचेंज भी यूज़ करने में काफी आसान और फ़ास्ट है। poloniex exchange की स्थापना भी usa में की गयी थी bittrex की तरह। यह exchange 2014 में स्थापित किया गया था और तब से अब तक बेहतरीन तरीके से काम कर रहा है। इसी लिए इस exchange को भी काफी safe माना जाता है।

यह पांचो exchange नए users को ध्यान में रखते हुए लिस्ट किये गए है , ये पांचो एक्सचेंज safe और आसान है इस्तेमाल करने में।
cryptocurrency की Important न्यूज़ और updates जान ने लिए इस वेबसाइट को subscribe ज़रूर करे।

                                                   धन्यवाद ,